Welcome to the world of Fun & Wisdom

Your ultimate destination for relaxing, inspiring, fun, emotional, knowledgeable & mysterious poems

Latest from the Blog

ऐ वक़्त थोड़ा वक़्त तो दे -A Poem By Rohan

की उम्र यूहीं फ़ना हो रही
चंद ख़्वाहिशों को पूरी करने में,
ज़िंदगी यूंही कुर्बां हो रही
चंद लम्हों को जीने में।

अब वक़्त मिला है मुझे
मन ज़िंदगी जीने को करे,
पर ख़ुद वक्त की क़ुर्बत में वक़्त नहीं
फ़रियाद है मेरी वक़्त से
ऐ वक़्त थोड़ा वक़्त तो दे…२

ज़रूरत नहीं- A Poem By Rohan

की इशारों से मुलाकात हो जाया करते हैं
कुछ कहने की ज़रूरत नहीं,
जब आंखें बात कर रही हों
दख़ल देने की ज़रूरत नहीं।

इंतज़ार का हर लम्हा अरसा लगे
फीर भी बात करने की फ़ुर्सत नहीं,
जब मुंतज़िर आशिक़ तफक्कूर में हो
हालात पूछने की ज़रूरत नहीं।

जश्न-ए-फ़तह-A Poem By Rohan

काविशें तेरी फ़तह का पैग़ाम देती हैं
गर्दिश-ए-आयाम जल्द ही मयस्सर हो
कोशिशें तेरी साहिल का मक़ाम देती हैं
ख्वाहिशों का अंजाम जल्द ही मुकद्दर हो…२

तेरा वस्ल, तेरा जुनून, तेरा फितूर
शब-ओ-रोज़ जल रही हौसलों की चिंगारी
ये इज़्तिरार, ये तलब, ये जुस्तूजू
मुज़्दा को बेताब ये बेकरारी!…….

Get new content delivered directly to your inbox.